एनएसकेएफडीसी सीएसआर पहल

Printer-friendly version

 सीएसआर पहल

1 एनएसकेएफडसी अपने कारर्पोरेट सामाजिक दायित्व (सी.एस.आर.) पहल के तहत हसीरू डाला को ‘‘कूड़ा बीनने वालों एवं अनौपचारिक रूप से कूड़ा उठाने वालों के लिए कौशल उन्ययन’’ परियोजना को प्रोत्साहित करता है। इस परियोजना का लक्ष्य कूड़ा बीनने वालों का कौशल उन्ययन करना, उनके नेताओं/प्रमुखों एवं कार्यकर्ताओं को कूड़ा क्षेत्र में उद्यमी बनाने में सहायता करना एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन में एकीकरण हेतु कूड़ा बीनने वालों को संगठित करना है।
परियोजना के तहत कार्य की व्यापकता इस प्रकार से हैः –
  • कूड़ा बीनने वालों के लिए घर घर जाकर संग्रहण के लिए व्यवसायिक अवसर तलाशना, गीले एवं सूखे कूडे का प्रसंस्करण एवं एकत्रीकरण करना
  • जैविक कूड़ा प्रबन्धन जैसे कि खाद, बायोमेथानाईजेशन के लिए कूड़ा बीनने वालों के मुख्य व्यक्तियों को प्रशिक्षण 
  • संबध कार्यकलापों के लिए मैनुअल तैयार करना
  • पुर्नचक्रण उद्योग में अवसरों के बारे में सीखने हेतु सीपेट गुवाहाटी/पुरी में शैक्षणिक भ्रमण
  • 2 कार्यकर्ताओं या कूड़ा बीनने वालों के लिए तीन माह का फैलोशिप कार्यक्रम

परियोजना कवरेज
परियोजना के तहत लाभार्थियों की प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष कवरेज इस प्रकार रहेगी :-
प्रत्यक्ष लाभार्थी 

  • 2 विभिन्न कार्यशलाएं जिनमें प्रत्येक में 50 कूड़ा बीनने वाले होगे के द्वारा 100 कूड़ा बीनने वाले समुदा के मुख्य व्यक्ति
  •  तीन माह के फैलोशिप कार्यक्रम के तहत 2 कार्यकर्ता/ कूड़ा बीनने वाले समुदाय के मुख्य व्यक्ति
  •  60 कूड़ा बीनने वालों/उनके प्रतिनिधियों का सीपेट में शैक्षणिक भ्रमण

अप्रत्यक्ष लाभार्थी

  • 10 कूड़ा बीनने वाले नेताओं द्वारा 2500 कूड़ा बीनने वालों को प्रशिक्षित करना।
  • फैलोशिप कार्यक्रम के तहत 2 साथियों द्वारा 500 कूड़ा बीनने वालों को संगठित करना।
2 आनंद विहार में दिनांक 12.08.2017 को सेप्टिक टैंक की सफाई के दौरान हुई एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना मे दो भाई मो॰ जहाँगीर एवं मो॰ एजाज आलम की मृत्यु हो गयी जिससे वे अपने परिवार एवं वृद्ध माता पिता एवं छोटे बच्चों को गहन आघात में छोड़ गए I
एनएसकेएफडीसी ने तत्काल स्वैच्छिक सहायता राशि रु॰ 50,000/- दिनांक 28.08.2017 को श्री मो॰ युसुफ (दोनों मृतको के पिता) को निगम की सीएसआर गतिविधि के तहत प्रदान की ताकि दोनों बेटों की मृत्यु के कारण वित्तीय संकट से जूझ रहे परिवार की सहायता हो सके I